Thursday, August 09, 2018

जनता का गीत

तुम अँग्रेजी बुल-डॉग
और हम
पन्नी-खाती गायें

चरण चाट कर, पूँछ हिलाकर
तुम-
महलों में सोते
हम दर-दर अपनी लाशें
अपने
कंधों पर ढोते
तुम उड़ो हवा के संग
और हम
डग-डग डपटे जायें

चाहे जिस पर भौंको
काटो,
दौड़ाओ, गुर्राओ
जहाँ मन करे-
छीनो, झपटो, लूटो,
मारो, खाओ.
तुम टूटो बन कर मौत
और हम
भागें दायें- बायें

संविधान, कानून, कोर्ट
सब फेल
तुम्हारे आगे
करते तुम हो, लेकिन
हरदम
भरते हमीं अभागे
तुम खेलो अपने खेल
और हम
लाठी- गोली खायें

-जय चक्रवर्ती