Sunday, January 31, 2016

एक चाँदा मेड़ पर

-रामकिशोर दाहिया

नर्म तिनके ले वया फिर
स्वेटरों से घोंसले-घर
बुन रही उस पेड़ पर

किरण के सूजे सम्हाले
युवतियों-सी व्यस्त बूँदें
हर डिजाइन सीखने में
और मेरी ऊर्जा के
स्रोत सारे होम होते
एक रेखा खींचने में

संगमरमर पर लिखे हैं
लेखनी के शिल्प अक्षर
लादने को भेड़ पर।

माचिसों की डिब्बियों से
खेत फैले फिर हवाएँ
ले जरीबें चक बनातीं
मात्र गीली तीलियाँ हैं
उलझनें ये कीरने पर
हाथ में ही फुरफुरातीं

मौसमों ने रख दिया है
नाप की सीमा दिखा कर
एक चाँदा मेड़ पर ।

-रामकिशोर दाहिया

No comments: