Saturday, October 17, 2015

झूठों की दुनिया में

हम झूठ बोलने के
इतने अभ्यस्त हुए
कहते कुछ और
बखान और कुछ करते हैं
चेहरों पर चिपके हुए
मुखौटों के युग में
हम बिना मुखौटे के
रहने में डरते हैं

जो सुबह सभा में
जोश भरे नारे देते
संध्या होते-होते
सस्ते बिक जाते हैं
आईना वक़्त का
नहीं अभी धुँधलाया है
जैसी जिसकी छवि है
इसमें दिख जाते हैं
अवसर बेईमानी का
जिनको नहीं मिला
बेईमानो को बहुत
गालियाँ देते हैं
जब कभी
दाँव लगता इनका
फिर मत पूछो
भ्रष्टों के सभी रिकार्ड
ध्वस्त कर देते हैं

है क़तरा-क़तरा खून
गुलामी का आदी
खिदमत करने के
हैं अभ्यस्त हुजूरों की
सभ्यता हमारी दरवारी
चाकरपन अपनी रग-रग में
क्या कहा !
‘सत्य’ को सत्य कहें
तौबा ! तौबा !
बाजीगर की बस्ती में तो
होती है पूछ जमूरों की
यूँ तो हम
सर से पाँव तलक ही झूठे हैं
पर, रौब जमाकर
सच साबित कर लेते हैं

हैं लोग अधिकतर
इस मज़में में बिके हुये
मतलब सधने पर
‘बाप’ गधों को कह लेते
देखे हमने कुछ संत
सीकरी में जाकर
फरसी आदाब बज़ाते
स्वारथ के नाते
इनकी लफ्फाजी पर
विश्वास न कर लेना
गिरगिट हैं
मौसम के अनुरूप
बदल जाते
देखी, लिजलिजी जरा सी भी
गुड़ की ढेली
ये स्वार्थ-कीट हैं
जाकर
वहीं चिपक जाते
पर
इस युग में भी
दो-चार झूठ के दुश्मन हैं
जो, अखिल विश्व के
आरोपों को सहते हैं
नाराज़
भले हो जाये उनसे सिंहासन
पर बात उसूलों की
वे, निर्भय कहते हैं
हम झूठ .......

-डॉ० जगदीश व्योम

No comments: