Thursday, April 14, 2011

बच्चे की आँख में - ( कुमार रवीन्द्र)

बच्चे की आँख में

सामने कैलेंडर है
बच्चा है
बच्चे की आँख में कबूतर है

कमरे में दिन है
धूप है-हवाएँ हैं
नीले आकाश हैं
परियों की बातें हैं
नदियों के घाट हैं
गाछ-हरी घास हैं

खिड़की के बाहर
जो पीपल है
उसकी परछाईं भी अंदर है

खुले हुए दरवाजे
आर-पार फैले हैं
सपने-ही-सपने
फूल और पत्तों के
आपस के रिश्ते
सारे हैं अपने

यह टापू साँसों का
जिस पर हैं यादें
यहीँ सूरज का घर है


-कुमार रवीन्द्र

No comments: